Moral Vision Prakashan Pvt. Ltd.

अब हिमाचल प्रदेश में घटे डीजल-पेट्रोल के दाम

अब हिमाचल प्रदेश में घटे डीजल-पेट्रोल के दाम

October 11, 2017 12:15 PM
अब हिमाचल प्रदेश में घटे डीजल-पेट्रोल के दाम

नई दिल्ली। डीजल-पेट्रोल की रोजाना बढ़ती कीमतों से परेशान जनता को पहले गुजरात ने सस्ते डीजल-पेट्रोल का तोहफा दिया और उसके बाद महाराष्ट्र ने। अब हिमाचल प्रदेश ने भी अपने लोगों को सस्ता डीजल-पेट्रोल देने का फैसला किया है। हिमाचल प्रदेश ने डीजल-पेट्रोल पर लगने वाले वैट में 1 फीसदी की कटौती कर दी है, जिससे यहां के लोगों को अब पहले के मुकाबले सस्ता डीजल-पेट्रोल मिलेगा। वैट घटाने को लेकर हिमाचल प्रदेश में मंत्रिमंडल की एक बैठक हुई, जिसके बाद मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि लोगों को राहत देने के लिए ही डीजल-पेट्रोल पर लगने वाले वैट को घटा दिया गया है। आपको बता दें कि डीजल-पेट्रोल से पहले ही हिमाचल प्रदेश के लोग परेशान थे, लेकिन अब हिमाचल सरकार की तरफ से लिया गया फैसला उनके लिए राहत भरी खबर लेकर आया है। यह भी कयास लगाए जा रहे हैं कि अब जल्द ही मध्य प्रदेश भी वैट में कटौती कर सकता है, जिससे वहां के लोगों को भी फायदा होगा।
महाराष्ट्र में भी सस्ता हुआ डीजल-पेट्रोल 
महाराष्ट्र सरकार ने भी राज्य के लोगों को सस्ते डीजल-पेट्रोल का तोहफा दे दिया है। सरकार ने पेट्रोल की कीमतों में 2 रुपए की कटौती की है और डीजल की कीमतों में 1 रुपए की कटौती कर दी है। यह नई कीमतें मंगलवार रात 12 बजे से प्रभावी हो चुकी हैं। ऑल इंडिया पेट्रोल डीलर्स एसोसिएशन के प्रवक्ता अली दारूवाला ने बताया कि महाराष्ट्र में इस कमी के बाद पेट्रोल के दाम 2.33 रुपए प्रति लीटर और डीजल के दाम 1.25 रुपए प्रति लीटर कम हो जाएंगे।
गुजरात ने की थी डीजल-पेट्रोल की कीमतें घटाने की पहल
इससे पहले मंगलवार को ही गुजरात में भी डीजल-पेट्रोल की कीमतों में कटौती की गई थी। मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने मंगलवार को डीजल-पेट्रोल पर वैट की दरों में 4 फीसदी की कटौती करते हुए पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कमी का ऐलान किया था। वैट में कटौती के बाद गुजरात में पेट्रोल के दाम 2.93 पैसे और डीजल के दाम 2.72 पैसे कम हो गए हैं। गुजरात में भी पेट्रोल और डीजल की घटी हुई कीमतें मंगलवार आधी रात से लागू हो चुकी हैं। इस फैसले के बाद गुजरात में डीजल 60.77 रुपए प्रति लीटर हो जाएगा और पेट्रोल की कीमत 66.53 रुपए प्रति लीटर हो जाएगी। सरकार को इस फैसले से करीब 2,316 करोड़ रुपए का सालाना नुकसान होने का भी अनुमान है।
सरकार घटा चुकी है एक्साइज ड्यूटी 
आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों से अपील की थी कि वे ईंधन से वैट की दरें कम करें, ताकि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी आ सके। हाल ही में केंद्र सरकार ने पेट्रोलियम उत्पादों से एक्साइज ड्यूटी 2 रुपए कम की है। एक्साइज ड्यूटी घटाने के बाद पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा था कि अब राज्यों की जिम्मेदारी है कि वे वैट की दरें कम करें।
 


Moral Vision Prakashan Pvt. Ltd.
About us | Contact us | Our Team | Privacy Policy | Terms & Conditions | Downloads
loading...