19 Feb 2020
Moral Vision Prakashan Pvt. Ltd.

राज्यपाल आनंदीबेन ने कहा, रामराज्य को साकार करना ही प्राथमिकता

राज्यपाल आनंदीबेन ने कहा, रामराज्य को साकार करना ही प्राथमिकता

February 14, 2020 11:06 AM
राज्यपाल आनंदीबेन ने कहा, रामराज्य को साकार करना ही प्राथमिकता

लखनऊ । बजट सत्र के पहले दिन गुरुवार को सदन में विपक्ष के हंगामे के बीच राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने पूरा अभिभाषण पढ़ा। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए रामराज्य की परिकल्पना साकार करने को अपनी प्राथमिकता बताया। राज्यपाल ने जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देते हुए कृषि कुंभ, गंगा यात्रा, ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी से लेकर हाल में हुए डिफेंस एक्सपो को भी अपने भाषण में गिनाया।

दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में लगभग 55 मिनट के अभिभाषण के दौरान समाजवादी पार्टी, कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी के सदस्यों ने वेल में पहुंच सरकार विरोधी नारे लगाए और पोस्टर लहराए। इससे पूर्व सपा व कांग्रेस सदस्यों ने एलपीजी महंगी होने के विरोध मे चौधरी चरण सिंह की प्रतिमा के निकट गैस का सिलेंडर व गन्ना, प्याज लेकर धरना दिया।
अभिभाषण के लिए राज्यपाल आनंदीबेन विधानसभा अध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित व विधानपरिषद सभापति रमेश यादव के साथ सुबह 11 बजे सदन में पहुंची। राष्ट्रगान के बाद सपा, बसपा व कांग्रेस के साथ सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के सदस्यों ने अपनी सीटों पर खड़े होकर राज्यपाल वापस जाओ, झूठ का पुलिंदा मत सुनाओ, जैसे नारे लगाने शुरू कर दिए और वेल में पहुंच गए। विपक्षी सदस्य सरकार विरोधी नारे लिखी लाल, नीली, पीली और सफेद टोपियां लगाए थे और पोस्टर भी लिए थे।

विपक्ष के हंगामे की परवाह नहीं करते हुए राज्यपाल आनंदीबेन ने वर्ष 2020 की शुभकामना देने के साथ अभिभाषण शुरू किया। शुरुआत उन्होंने रामचरित मानस के श्लोक से की-

दैहिक दैविक भौतिक तापा। रामराज नहिं काहुहि व्यापा।

सब नर करहिं परस्पर प्रीती। चलहिं स्वधर्म निरत श्रुति नीती।

राज्यपाल ने कहा कि राम राज्य को साकार करने के लिए सर्वांगीण विकास सरकार की प्राथमिकता है। राज्यपाल ने आवास योजना, गन्ना मूल्य भुगतान, उज्जवला व सौभाग्य योजना, शौचालय निर्माण, सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्योगों की स्थापना, जीवन ज्योति व आम आदमी बीमा योजना, दूध, चीनी, गन्ना व आम उत्पादन और अटल पेंशन योजना में देश में अव्वल रहने की जानकारी भी दी।
आपराधिक आंकड़ों में गिरावट

राज्यपाल ने फर्रुखाबाद में बंधक 21 बच्चों को सुरक्षित छुड़ाने की घटना का जिक्र करते हुए उत्तर प्रदेश में कानून का राज स्थापित होने की बात कही। बताया कि वर्ष 2017 के सापेक्ष गत वर्ष दुष्कर्म की घटनाओं में 35.06 प्रतिशत, डकैती में 53.7, लूट में 44.5, बलवा में 38.1, हत्या में 14.05 और अपहरण में 30.43 फीसद कमी दर्ज की गयी है। अपराधियों पर सख्ती बरतते हुए वर्ष 2019 में तीन को मृत्युदंड, 152 को उम्रकैद व 585 को अन्य सजा हुई। 218 पाक्सो कोर्ट का गठन किया गया। कहा कि गौतमबुद्धनगर और लखनऊ में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू की गई।
रिकार्ड खाद्यान्न उत्पादन

राज्यपाल ने किसानों की आय दोगुना करने के लिए फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने व खरीद किए जाने की जानकारी देते हुए बताया कि वर्ष 2018-10 में 604.15 लाख मीट्रिक टन खाद्यान्न रिकार्ड उत्पादन हुआ।

निराश्रित 4.49 लाख गोवंश का संरक्षण
राज्यपाल ने बताया कि प्रत्येक जिले में दो बड़े गोवंश संरक्षण केंद्र स्थापित किए गए है। 4,921 गो आश्रय स्थलों में 4.49 लाख निराश्रित गोवंश संरक्षित किए गए है। इसके अलावा 23,542 गोपालक परिवारों को 46,786 गोवंश सुपुर्द किए गए है। 39 पंजीकृत गोशालाओं में गोवंश भरणपोषण के लिए मंडी परिषद द्वारा 22.62 करोड़ रुपये की धनराशि जारी की गई है।

मृत्यु दर में गिरावट

राज्यपाल आनंदी बेन ने बताया कि मातृ मृत्यु दर में रिकार्ड 30 प्रतिशत गिरावट होने से भारत सरकार ने राज्य सरकार को एमएमआर एवार्ड प्रदान किया है। वहीं इंसेफ्लाइटिस के मामलों में 56 प्रतिशत की कमी आई जबकि मृत्यु के आंकड़ों में 81 फीसद गिरावट हुई। 104 इंसेफ्लाइटिस केंद्र स्थापित किए और 3.5 लाख लोगों को प्रशिक्षित किया। सात नए मेडिकल कालेजों में पढ़ाई आरंभ हुई और हरदोई, एटा, प्रतापगढ़, फतेहपुर, सिद्धार्थनगर, देवरिया, गाजीपुर व मीरजापुर में आठ मेडिकल कालेजों का निर्माण चल रहा है।
विकास को रफ्तार

अवस्थापना सुविधा बढ़ाने का जिक्र करते हुए उन्होंने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे, बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का कार्य प्रारंभ होने के साथ गंगा एक्सप्रेस-वे निर्माण प्रक्रिया शुरू होने की जानकारी दी। एक लाख 29 हजार किलोमीटर सड़कों को गड्ढामुक्त करने के बारे में बताया। नोएडा इंटरनेशनल ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट के लिए 1,334 हेक्टेयर भूमि पर कब्जा प्राप्त करने और अलीगढ़, आजमगढ़, मुरादाबाद, श्रावस्ती, सोनभद्र, चित्रकूट व झांसी में एयरपोर्ट निर्माण तेज होने की जानकारी दी।
यूपी बन रहा मन्युफैक्चरिंग हब

उत्तर प्रदेश को मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने के लिए 21 नई नीतियां बनाने, निवेश को बढ़ावा देने के लिए इन्वेस्टर्स समिट आदि के जरिए करीब दो लाख करोड़ रुपये की परियोजनाओं की आधारशिला रखने की जानकारी दी। उनका कहना था कि इससे 25 लाख से अधिक रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। डिफेंस इंडस्ट्रियल मैन्युफैक्चरिंग कॉरिडोर के जरिए 2.5 लाख युवाओं को रोजगार मिलने की बात भी कही।


Moral Vision Prakashan Pvt. Ltd.
About us | Contact us | Our Team | Privacy Policy | Terms & Conditions | Downloads
loading...